रांची। IAS राजेश प्रसाद का निधन हो गया। 52 वर्ष के राजेश प्रसाद कोरोना से उबरने के बाद भी बीमारियों से घिरे हुए थे। रविवार को एक निजी अस्पताल में उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने IAS राजेश प्रसाद के निधन पर दुख जताया है और शोक संतप्त परिवार को ढाढस बंधाया है। 1996 बैच के IAS अधिकारी राजेश प्रसाद असम-मेघालय कैडर के अफसर थे। राजेश प्रसाद अभी असम में प्रधान सचिव के तौर पर पदस्थ थे। उनके परिवार में पत्नी और बेटा है।

जानकारी के मुताबिक प्राइवेट हास्पीटल में उन्हें कुछ दिन पहले ही भर्ती कराया गया था, जिसके बाद उनकी तबीयत लगातार बिगड़ रही थी। रविवार का दोपहर उनका निधन हो गया। वो झारखंड के रांची के रहने वाले थे। असम सरकार में प्रधान सचिव राजेश प्रसाद की गिनती तेज तर्रा अफसरों में होती है।

असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने भी राजेश प्रसाद के निधन पर दुख जताया है। उन्होंने लिखा है कि विभिन्न विभागों में प्रधान सचिव के रूप में अपनी सेवाएं देने वाले राजेश प्रसाद का आसमयिक निधन के बारे में जानकर काफी दुख हुआ।

वहीं मुख्यमंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने भी आईएएस राजेश प्रसाद के निधन पर दुख जाताया है। उन्होंने राजेश प्रसाद को एक बेहतर प्रशासक बताया है। मुख्यमंत्री ने लिखा है कि प्रधान सचिव राजेश प्रसाद के निधन से काफी दुख हुआ, जिन्होंने कोविड़ 19 के बाद की स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर गुवाहाटी में अंतिम सांस ली। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं।

Leave a comment

Your email address will not be published.