रांची। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आज रांची की विशेष अदालत में आत्मसमर्पण करेंगे। दोपहर बाद वो सरेंडर कर सकते हैं। इससे पहले पिछले तीन साल से उन्हें लगातार नोटिस दिया जा रहा था। लेकिन वो चुनाव आचार संहिता उल्लंघन मामले में पेश नहीं हो रहे थे। रांची के अरगोड़ा थाना में दर्ज चुनावी आचार संहिता उल्लंघन मामले में मंगलवार को हेमंत सोरेने एमपी-एमएलए की विशेष अदालत में सरेंडर कर सकते हैं।

मामला जमानतीय है, लिहाजा सरेंडर के साथ ही उनकी जमानत याचिका भी दाखिल की जायेगी। इस मामले में केस के आईओ द्वारा अदालत में चार्जशीट तीन पहले ही दाखिल हो चुकी है।  लिहाजा, हेमंत सोरेन को अदालत में उपस्थित होना होगा, जिसके बाद कोर्ट अपने विवेक से आगे की कार्रवाई करेगा।

इससे पहले कोर्ट ने 2 जून को हेमंत सोरेन को उपस्थित होने के आदेश दिया था, लेकिन 2 जून को ना तो मुख्यमंत्री हेंमंत सोरेने और ना ही उनके अधिवक्ता  ही पेश हुए। वकील के अनुरोध पर उन्हें 7 जून को उपस्थित होने का तारीख तय की थी।

2019 के लोकसभा चुनाव में हेमंत सोरेने गले में पार्टी चिन्ह व पट्टा के साथ वोट देने पहुंचे थे। ये पूरा मामले 2019 का है, जब सीएम हेंमंत सोरने अपनी पत्नी कल्पना सोरेन के साथ रांची के हरमू स्थित संत फ्रांसिस स्कूल स्थित मतदान केंद्र पर वोट देने पहुंचे थे। इस दौरान हेमंत सोरेन ने अपने गले में झामुमो पार्टी का चुनाव तीर धनुष का पट्टा पहुंचा था। पोलिंग बूथ पर योजूद कार्यपालक  दंडाधिकारी राकेश रंजन उसांव ने रांची के अरगोड़ा थाना में प्राथमिकी दर्ज की थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.