धनबाद: जिले में नवपदस्थापित सिविल सर्जन डा आलोक विश्वकर्मा ने पदभार संभालते ही प्रखंडों का तूफानी दौरा शुरू कर दिया। आज सिविल सर्जन औचक निरीक्षण करने गोविंदपुर और टुंडी प्रखंड पहुंचे। बिना किसी पूर्व सूचना पर अचानक पहुंचे सिविल सर्जन को देखकर कर्मियों में हड़कंप मच गया।

अधिसूचना जारी होते ही HPBL को दिए पहला इंटरव्यू में सिविल सर्जन ने कहा था की राज्य भर में धनबाद की स्वास्थ्य व्यवस्था को अव्वल नंबर पर लाना मेरी पहली प्राथमिकता रहेगी ,आज उसका ताजा उदाहरण सिविल सर्जन के औचक निरीक्षण से साफ पता चलता है।

औचक निरीक्षण में निकले सिविल सर्जन को कहीं चिकित्सक तो कहीं कर्मी नहीं मिले। सिविल सर्जन ने साफ शब्दों में संदेश दिया की चिकित्सक हो या कर्मी अपने अपने कार्य प्रणाली और गुणवत्ता में सुधार लाएं। साथ ही ये भी कहा की मैं किसी को आज अनुपस्थित करने नहीं निकला हूं, ये मेरा बतौर सिविल सर्जन पहला भौतिक निरीक्षण है।अंतिम व्यक्ति तक स्वास्थ्य सेवा पहुंचे इसके लिए जो कमी है उसको दूर करने की कोशिश कर रहा हूं।

डायरिया नियंत्रण रोधी कार्यक्रम के बारे भी जानकारी ली गई।डायरिया से बचाव के लिए किस तरह के प्रशिक्षण दी गई है, सहिया को क्या क्या निर्देश दिए गए है, प्रसव गृह की सुविधा, गर्भवती को दी जाने वाली सुविधा के बारे जानकारी ली। सिविल सर्जन ने कहा की कर्मी और सहिया किसी भी बीमारी से संक्रमित मरीज के संपर्क में पहले आते है, इसलिए उसे प्रशिक्षण देने को लेकर जल्द बैठक बुलाई जाय और हमें सूचित करें, हमारी कोशिश रहेगी कि मैं उस बैठक में उपस्थित रहूं।

Leave a comment

Your email address will not be published.