रांची झारखंड कैबिनेट की बैठक आज संपन्न हुई। मंत्रिपरिषद की हुई बैठक में कुल 29 प्रस्ताव स्वीकृत किए गए। मनरेगा कर्मियों के मानदेय बढ़ाने के साथ-साथ झारखंड हृदय योजना शुरू करने की मंजूरी दी गई। इसके तहत प्रशांति मेडिकल सर्विसेज के साथ एमओयू स्वास्थ्य विभाग करेगा। देश के दो बड़े हार्ट अस्पताल जिसमें सत्य साईं अस्पताल अहमदाबाद में 3 से 18 वर्ष के 500 बच्चों और राजकोट स्थित सत्य साईं अस्पताल में 18 से 65 वर्ष के 5000 मरीजों का निशुल्क शल्य चिकित्सा किया जाएगा।

अस्पताल आने जाने के लिए मरीज और उसके एक अटेंडेंट को एकमुश्त ₹10000 दिए जाएंगे। फ्री स्क्रीनिंग के बाद अस्पताल द्वारा ट्रीटमेंट सर्जरी की तिथि निर्धारित की जाएगी। रोगी के अटेंडेंस से प्री या पोस्ट मेडिकल डायग्नोसिस, इन्वेस्टिगेशन, ट्रीटमेंट, सर्जरी, मेडिसिन, आईसीयू चार्ज नहीं ली जाएगी।इस प्रकार इलाज पूर्णतः मुफ्त होगा। हर साल लगभग 1000 मरीजों को इसका लाभ मिलेगा।

कैबिनेट ने अस्पतालों में काजल नॉन टीचिंग स्टाफ और विशेषक डॉक्टरों की सेवानिवृत्ति आयु 65 वर्ष से बढ़ाकर 67 वर्ष करने की स्वीकृति दी। विधायक फंड को 4 करोड़ से बढ़ाकर 5 करोड़ करने पर मंजूरी दी गई। राज्य में मनरेगा कर्मियों के मानदेय में बढ़ोतरी की गई। अनुभव के आधार पर बीपीओ का अब 23140 रुपया और ₹23700 मिलेगा। रोजगार सेवकों को 11000 और ₹12000 दिया जाएगा दिया जाएगा। मंत्री परिषद ने डुमरी की डॉक्टर संगीता कुमारी, धनबाद में कार्यरत डॉक्टर आशुतोष कुमार के बिना सूचना के लंबी अवधि कार्य से गायब रहने के कारण सेवा से बर्खास्त करने का निर्णय सहित अन्य प्रस्ताव पर मुहर लगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.