पटना। बिहार का एक और लाल सीमा पर देश के लिए वीरगति को पा गया। कश्मीर के मेंढर सेक्टर में ग्रेनेड ब्लास्ट में कैप्टन आनंद कुमार शहीद हो गये। बिहार के खगड़िया जिला के रहने वाले कैंप्टन आनंद की शहादत की खबर से पूरा जिला गमगीन है। मेंढर में हुए ग्रेनेड ब्लास्ट में कैप्टन आनंद के अलावे जेसीओ सहित दो लोग शहीद हो गये हैं। कैप्टन आनंद एलओसी पर बतौर कैप्टन तैनात थे। उनके शहादत की खबर मिलते ही पूरे परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा।

शहीद आनंद के पिता मधुकर सिंह बिहार पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं। आनंद नयागांव शिरोमणि टोला खगड़िया के रहने वाले हैं। दो भाई में आनंद सबसे बड़े थे और पिछले महीने ही 21 जून को छुट्टी पर घर आये हैं। 10 जुलाई को छुट्टी खत्म होने के बाद वो खगड़िया से लौटे थे। वापस लौटने से 7 दिन बाद ही उनकी शहादत की खबर से पूरा गांव गम में डूबा है। पूरे परिवार पर तो मानों दुखों का पहाड़ टूट गया है।

पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में जब सैनिक नियंत्रण रेखा पर अपनी ड्यूटी कर रहे थे, उसी दौरान अचानक से एक ग्रेनेड विस्फोट हुआ। इस विस्फोट में कई जवानों को चोटें आयी हैं। इलाज के दौरान एक अधिकारी कैप्टन आनंद और एक जेसीओ ने दम तोड़ दिया. पीआरओ डिफेंस, जम्मू ने इसकी पुष्टि की है. इस घटना में 4 अन्य जवान घायल बताये जा रहे हैं, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है।

शहीद होने वाले सैन्यकर्मियों की पहचान कैप्टन आनंद और नायब सूबेदार भगवान सिंह के रूप में हुई है। इस मामले में कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दे दिए गये हैं। इस मामले में विस्तृत जानकारी की प्रतीक्षा की जा रही है। इस हमले में एक सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) शहीद हो गए।

Leave a comment

Your email address will not be published.