पटना। एक बार फिर नीतीश कुमार ने अपना पाला बदल लिया है। पिछली बार राजद का हाथ छोड़ बीजेपी के साथ आये थे और आज बीजेपी का साथ छोड़ राजद के साथ मिल गये हैं। इस्तीफा देने के बाद करीब एक घंटे तक अलग-अलग मीटिंग के जरिये सरकार पर मंथन के बाद तेजस्वी के साथ नीतीश कुमार राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश किया। नीतीश कुमार ने कहा कि उनके साथ कुल 164 विधायक हैं। अब बिहार में बीजेपी अकेली रह जायेगी, जबकि विपक्षी सभी पार्टियां अब एक साथ महागठबंधन में आ गयी है।

अब महागठबंधन को निर्दलीय उम्मीदवारों का भी समर्थन मिल गया है। जल्द ही नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह भी होना है. लेकिन ये कब होगा, अभी तक स्पष्ट नहीं. इस पर नीतीश कुमार ने सिर्फ इतना कहा है कि राज्यपाल जो भी तारीख तय करेंगे, उस दिन ये समारोह किया जाएगा. 2024 में क्या नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार बनाया जाएगा, इस पर तेजस्वी यादव ने सिर्फ इतना कहा है कि ये फैसला नीतीश पर छोड़ दिया गया है. ये फैसला लेने का हक सिर्फ उनके पास है. वहीं जब नीतीश से भी इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने बात करने से ही मना कर दिया।

तेजस्वी यादव ने कहा है कि बिहार की जनता ने विपक्ष को संदेश दिया है कि जो मजबूती से जनता के सवालों के लिए लड़ता है, उसका साथ दिया जाता है. उन्होंने बीजेपी का साथ छोड़ने के लिए नीतीश कुमार को भी धन्यवाद दिया है. साफ कहा है कि बीजेपी ने साजिश के तहत पार्टी को खत्म करने का प्रयास किया था. पंजाब में अकाली के साथ भी ऐसा ही किया गया. राज्यपाल से मिलने के बाद मीडिया से बात करते हुए नीतीश कुमार ने कहा है कि हमारे पास 164 विधायकों का समर्थन है. कुल सात पार्टियां मिलकर ये सरकार चलाने वाली है. हर कोई साथ मिलकर जनता की सेवा करने वाले हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.