दुबई: रविवार को पाकिस्तान पर रोमांचक मुकाबले में जीत के बाद आज एशिया कप में भारत का मुकाबला कमज़ोर हॉंगकॉंग से है। इस मैच में भारत अपने बेंच स्ट्रेंथ को आजमा सकता है। पाक के खिलाफ अंतिम ओवर में मिली जीत से भारतीय खिलाड़ीयो का मनोबल बढ़ा हुआ है। हालांकि रोहित एंड कंपनी इस टीम को उतने भी हल्के में नही लेना चाहेगी। 4 साल पहले इसी मैदान पर इसी टूर्नामेंट में हॉंगकॉंग ने भारतीयों को जीत के लिए पसीने छुड़ा दिए थे। उस मैच को भारत ने 26 रनों से अपने पक्ष में किया था। इससे पहले भारत और हाँगकाँग 2008 में कराची में टकरा चुके है, जहाँ भारत ने रिकॉर्ड 256 रनों के अंतर से विजय हासिल की थी। हालांकि ये दोनों मुकाबले वनडे फॉर्मेट में हुए थे। यह पहला मौका होगा जब दोनों टी-20 फॉर्मेट में साथ खेलेंगे। भारतीयों के लिए यह एक ‘अभ्यास मैच’ बोला जा सकता है।

राहुल के पास मौका

उपकप्तान केएल राहुल के पास फॉर्म पाने का यह एक सुनहरा मौका होगा। अपेक्षाकृत और टीमों के मुकाबले हॉंगकॉंग का गेंदबाजी यूनिट उतना मजबूत नही है, इसी वजह से राहुल अपने हाथ इस मैच में खोलना जरूर चाहेंगे। पाक के खिलाफ केएल ‘गोल्डन डक’ का शिकार हुए थे।

गेंदबाजी में बदलाव सम्भव

इस मैच में रोहित शर्मा और टीम मैनेजमेंट गेंदबाजी आक्रमण में बदलाव कर सकते है। मैच में जडेजा और चाहल के स्थान पर अश्विन और विश्नोई को प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बनाया जा सकता है। पिछले मैच में चाहल ने अपने 4 ओवर के कोटे में 32 रन दिए थे पर विकेट नही मिला था।

Leave a comment

Your email address will not be published.