रांची: केरल के IAS को डीएम के पद से 6 दिन में हटा दिया गया है। असल में 3 साल पहले एक पत्रकार के मौत के मामले में आईएएस को आरोपी बनाया गया था। इसी वजह से डीएम के पद पर तैनाती होते ही लोगों ने विरोध शुरू कर दिया। आखिर में केरल सरकार ने उन्हें DM के पद से हटा दिया।

IAS श्रीराम को अलपुझा जिला कलेक्टर बनाए जाने को लेकर जमकर प्रदर्शन हुआ था। इसके बाद केरल सरकार को अपना फैसला बदलना पड़ा।

आरोप है कि आईएएस श्रीराम ने नशे में गाड़ी कार से पत्रकार को टक्कर मार दी थी। एक्सीडेंट में मलयालम अखबार सिराज के ब्युरो चीफ केएम बशीर की मौत हो गयी थी।

3 अगस्त 2019 को हुई इस घटना में आईएएस श्रीराम वेंकटरमण को मुख्य आरोपी बनाया गया था। अब हाल ही में उन्हें अलपूझा डिस्टिक कलेक्टर नियुक्त किया गया था। लेकिन 1 हफ्ते के अंदर ही उन्हें पद से हटा दिया गया है।

IAS श्रीराम वेंकटरमण के खिलाफ पत्रकारों का संगठन, कई मुस्लिम संगठन, युथ कांग्रेस और कई दूसरे संगठन प्रदर्शन कर रहे थे। IAS को अब कारपोरेशन लिमिटेड का जनरल मैनेजर बनाया गया है।

इससे पहले 24 जुलाई को उन्हें डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर नियुक्त किया था। 1 अगस्त को उन्हें इस पद से हटा दिया गया।

केरल सरकार की तरफ से जारी किए गए ऑर्डर के मुताबिक 2015 बैच के आईएएस ऑफिसर V R K Teja Mylavarapu अब अलपुझा डिस्टिक कलेक्टर का पद संभालेंगे। इससे पहले वह शेड्यूल कास्ट्स डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के डायरेक्टर थे।

कैसे हुई थी पत्रकार की मौत

3 अगस्त 2019 को देर रात पार्टी के बाद आईएस श्री राम अपने दोस्त फिरोज के साथ कार से लौट रहे थे। यह कार फिरोज की ही थी।आईएएस फोन पर बात कर रहे थे। इसी दौरान एक्सीडेंट हो गया।

आरोप है कि घटना के बाद जब पुलिस वालों को पता चला कि आरोपी एक आईएएस ऑफिसर है तो उन्होंने रोड एक्सीडेंट के बाद होने वाले जरूरी मेडिकल टेस्ट में देरी की।

बता दे आईएएस श्रीराम साल 2012 के यूपीएससी एग्जाम के सेकंड टॉपर है उन्होंने मेडिकल की पढ़ाई भी की है। इससे पहले इडुक्की जिले के देवीकुलम में सब कलेक्टर के पद पर काम करते हुए आईएएस श्री राम ने एक लैंड माफिया पर कार्रवाई की थी। इस दौरान उन्होंने के विधायक के खिलाफ एक्शन लिया था। इसपर खूब विवाद हुआ था। इसके बाद देवीकुलम में अपना कार्यकाल खत्म करने से पहले उन्हें ट्रांसफर कर दिया गया। साल 2020 में केरल सरकार ने आईएएस श्रीराम का सस्पेंशन रद्द कर दिया थस। उसके बाद आईएएस श्री राम को हेल्थ डिपार्टमेंट का जॉइंट सेक्रेटरी बना दिया गया था। इस फैसले के खिलाफ भी खूब प्रदर्शन हुआ था।

Leave a comment

Your email address will not be published.