रांची : रांची में अलग-अलग 17 एटीएम से करीब 1.82 करोड़ लेकर फरार हुए सीएमएस कंपनी के दोनों कर्मियों की तलाश जारी है ।मामले को लेकर अभी तक कई अहम जानकारियां मिली है । लेकिन अभी तक आरोपियों तक पहुंचना संभव नहीं हो पाया है ,कोशिश जारी है।

रांची राजधानी रांची के एटीएम में डाले जाने वाले राशि को गायब करने वाले आरोपी की पकड़ अभी तक जारी है। अभी तक की जांच के अनुसार आरोपियों ने एटीएम में डाले गए एक करोड़ 81 लाख 80 हजार 900रुपए गायब कर लिए हैं। पूरे मामले की जानकारी हासिल करने के लिए रांची एसएसपी ने एसआईटी का भी गठन किया है ।एसआईटी की टीम आरोपियों की तलाश में झारखंड के बाहर भी छापेमारी कर रही है।

अब तक की जांच में यह सबूत मिले:

जांच से पता चला है कि आरोपी अमित कुमार मांझी और सुभाष चेन ने रूट एक की 17 एटीएम से 2 करोड़ रुपए की निकासी कर ली है ।बताया जा रहा है कि आरोपियों को शहर के रूट संख्या एक के 36 एटीएम में राशि डालने का काम सोपा गया था। सीएमएस कंपनी ने दोनों आरोपियों को 36 एटीएम में रकम डालने के लिए कस्टडियन बनाया था ।इन्हें हर एटीएम का पासवर्ड दिया गया था। ताकि वे राशि डाल सके इन दोनों आरोपियों ने 11 जुलाई के बीच सभी एटीएम में राशि डालने का काम भी किया था लेकिन 13 जुलाई को रात को ही दोनों आरोपी ने 17 एटीएम से पासवर्ड के जरिए डाली गई रकम को निकाल लिया और रातों-रात मोबाइल ऑफ कर फरार हो गए ।कंपनी के अधिकारियों को आरोपियों के फरार होने की जानकारी तब हुई जब अधिकारी आरोपियों के घर पहुंची। इसके बाद से रांची पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई।

17 एटीएम में पाई गई गड़बडी ।

प्राप्त मिली जानकारी के अनुसार अब तक 17 एटीएम मे गड़बड़ी पाई गई है ।जबकि उन्हें 32 एटीएम का ऑडिट किया गया था शेष 15 एटीएम से निकासी रकम निकाली नहीं गई है।

रविवार को अरगोड़ा थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई

सीएमएस इन्फो सिस्टम्स लिमिटेड कंपनी के रीजनल ऑपरेशन मैनेजर इंद्रनिल सेन ने अरगोड़ा थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है ।पहले यह आवेदन रांची के कोतवाली थाना में दिया गया था। लेकिन मामला अरगोड़ा का है ,इसलिए अरगोड़ा थाना में एफ आई आर दर्ज की गई है ।f.i.r. में अरोड़ा रांची के ब्रांच मैनेजर अभिजीत कुमार पांडे कस्टोडियन अमित कुमार मांझी और सुभाष चेन पर एक करोड़ 85 लाख 80 हजार 900 रुपए पेटीएम से गायब करने का आरोप लगाया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.