रांची: झारखंड विधानसभा में आज खूब हंगमा हुआ। मुख्यमंत्री हेमंत सोरने के इस्तीफे की मांग कर रहे चार विधयकों को विधासभा स्पीकर ने निलंबित कर दिया। भाजपा के विधायक भानुप्रताप शाही, ढुल्लू महतो, जयप्रकाश भाई पटेल और रणधीर सिहो के विधानसभा से दो दिनों के लिए सस्पेंड किया गया है। ये सभी विधायक भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चर्चा चाहते हैं और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से इस्तीफे की मांग कर रहे थे।


भाजपा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर खनिज लुटने और लुटवाने का आरोप लगा रही थी। खनन लीज मामले में हेमंत सरकार मुश्किल में है। विधायक के प्रतिनिधि को ईडी ने गिरफ्तार किया है, वहीं मीडिया सलाहकार भी ईडी की निगरानी में है। इससे पहले एक आईएएस पूजा सिंघल की भी गिरफ्तारी हो चुकी है। आज सुबह से ही सदन में भाजपा विधायक लगातार हंगामा कर रहे थे। सभी भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार को घेर रहे थे। हंगामा कर रहे विधायकों पर स्पीकर ने एक्शन लेते हुए दो दिन केलिए सदन से निलंबित कर दियाहै।


आपको बता दें कि झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के दूसरे दिन सोमवार को भी कैश कांड में कोलकाता पुलिस द्वारा गिरफ्तार विधायकों के लेकर सदन में हंगामा हुआ था। विपक्ष के हो हंगामे के बीच बीजेपी विधायक भानू प्रताप शाही ने सदन पर इस मुद्दे को उठाया तो स्पीकर रवींद्र नाथ महतो ने कहा कि ये तो आपको ही पता होगा। कल सोमवार को सदन की कार्यवाही पहली पाली में हो-हल्ला के कारण स्थगित हुई थी, तो फिर कई विधायक हॉल में ही बैठे रहे। हो-हल्ला में सदन के अंदर भाजपा विधायक भानु प्रताप शाही ने कल पूछा था कि अब कहां हैं तीनों विधायक। उनका इशारा कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी, राजेश कच्छप व नमन विक्सल कोंगाड़ी की तरफ था। ये तीनों विधायक कैश कांड में पश्चिम बंगाल सीआईडी की रिमांड पर हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.