कोलकाता। शिक्षा मंत्री के करीबी के ठिकानों से 20 करोड़ कैश मिले हैं। शिक्षक भर्ती घोटाले में मंत्री पार्थ चटर्जी के करीबी अर्पिता मुखर्जी के ठिकानों पर ED ने दबिश दी। छापेमारी के दौरान ईडी ने शिक्षा मंत्री के करीबी के ठिकाने से 20 करोड़ कैश और अन्य दस्तावेज बरामद किये हैं। शिक्षा मंत्री के भी बंगले पर छापा मारा गया है, लेकिन अभी तक मंत्री के घर से मिले सामान की जानकारी नहीं आयी है। इधर इस पूरे मामले से टीएमसी ने खुद को अलग कर लिया है। टीएससी की तरफ से इस मुद्दे पर कुछ भी बोलने से मना कर दिया गया है।

टीएमसी की तरफ से एक अधिकारिक बयान जारी कर बस इतना ही कहा गया है कि पूरे प्रकरण और पैसों से टीएमसी का कोई लेना देना नहीं है। जांच में जिनके भी नाम आये हैं, जवाब देना उनका और उनके वकीलों का काम है। इधर बीजेपी ने इस मामले पर हंगामा करने का मूडब बना लिया है। भाजपा विधायक शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर कहा है कि अर्पिता मुखर्जी के घर से 20 करोड़ कैश मिला है। पे पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की करीबी है। जानकारी तो ये भी आयी है कि पैसा शिक्षा मंत्रालय के एनवेलेप में मिला है। उस लिफाफा में भी राष्ट्रीय स्मारक का लोगो प्रिंट किया हुआ है।

शुभेंदु अधिकारी ने दावा है कि ये तो बस एक ट्रेलर है। अभी पूरी फिल्म बाकी है। इस ट्वीट के बाद अटकलें लगनी शुरू हो गयी है कि जल्द ही इस पूरे प्रकरण में और भी बड़ खुलासा हो सकता है।

20 करोड़ हुए हैं बरामद

नोटों का जखीदा देख ईडी के अफसर भी हैरान हो गये। नोटों की संख्या इतनी ज्यादा थी कि इसे गिनने के लिए नोट गिनने वाली मशीन मंगवाना पड़ा. वहीं, ईडी ने ये भी कहा कि अर्पिता मुखर्जी के परिसर से 20 से अधिक मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं, जिसके उद्देश्य और उपयोग का पता लगाया जा रहा है. ईडी ने अपने बयान में कहा गया कि ईडी ने चटर्जी के अलावा शिक्षा राज्य मंत्री परेश सी अधिकारी, विधायक माणिक भट्टाचार्य और अन्य के परिसरों पर छापा मारा.

दो मंत्रियों के घर छापेमारी

ED की टीम ने आज यानी शुक्रवार सुबह सात बजे पश्चिम बंगाल के उद्योग और वाणिज्य मंत्री और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के महासचिव पार्थ चटर्जी के घर पर छापा मारा था. राज्य के एक अन्य मंत्री परेश चंद्र अधिकारी के घर पर भी ईडी ने रेड किया. इसके अलावा ईडी की टीम ने इनके 13 अन्य ठिकानों पर भी छापेमारी की.

Leave a comment

Your email address will not be published.