रांची: झारखंड के 320 प्लस 2 स्कूलों में कॉमर्स का एक भी विद्यार्थी नहीं है, लेकिन 289 शिक्षकों की नियुक्ति की तैयारी की जा रही है.। सरकार ने प्लस 2 स्कूलों में 3120 शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की है। इनमें से 289 शिक्षक कॉमर्स के भी है। राज्य में कुछ ऐसे भी प्लस टू स्कूल है, जहां कॉमर्स के शिक्षक तो है पर विद्यार्थी नहीं है। ऐसे में शिक्षक दूसरे विषयों की कक्षा लेते हैं।

एक ओर जिस विषय में विद्यार्थी नहीं है, उसमें शिक्षक की नियुक्ति की तैयारी है, वही विद्यालयों में जिस विषय को पढ़ने वाले 50,000 विद्यार्थी हैं वहां पढ़ाने के लिए शिक्षक ही नहीं है। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा तैयार रिपोर्ट के अनुसार राज्य के प्लस 2 स्कूलों में राजनीति शास्त्र में 36,000 वर्ष समाजशास्त्र में 24,000 विद्यार्थी हैं ।विद्यालयों में बिना शिक्षक के ही इन विषयों की पढ़ाई हो रही है। विद्यालयों में इन विषयों में शिक्षकों के पद ही सृजित नहीं है ।

510 प्लस टू उच्च विद्यालय

राज्य में 510 प्लस टू उच्च विद्यालय हैं ।इनमें इन तीनों संकाय की पढ़ाई होती है। सभी स्कूलों में शिक्षकों के 11-11 पद सृजित हैं। इनमें से एक कॉमर्स का भी पद है। राज्य में अब तक +2 स्कूलों में 3 बार शिक्षकों की नियुक्ति हुई है। 2 बार कॉमर्स में शिक्षकों की नियुक्ति हुई है। विद्यालयों में वर्तमान में 200 स्कूल में कॉमर्स के शिक्षक हैं।

वर्ष 2022 के इंटर की परीक्षा में 12 जिलों में 500 से कम विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे। बता दें कि इंटर की पढ़ाई प्लस2 2 के अलावा इंटर कॉलेज ,अंगीभूत कॉलेज व डिग्री महाविद्यालय में भी होती है।

जिलावार विद्यार्थी

  • सरायकेला 500
  • जामताड़ा 55
  • गोड्डा139
  • पाकुड़ 98
  • साहिबगंज 143
  • दुमका 328
  • लातेहार 239
  • गड़वा 246
  • चतरा 206
  • खूंटी 362
  • लोहरदगा 286
  • गुमला 488

शिक्षा विभाग ने तैयार की थी रिपोर्ट

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने प्लस 2 विद्यार्थियों में विद्यार्थी व शिक्षकों की स्थिति को लेकर रिपोर्ट तैयार की थी। रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि सभी प्लस टू स्कूल में कॉमर्स के विद्यार्थी नहीं हैं, पर शिक्षक के पद सृजित हैं। वही राजनीति शास्त्र और समाजशास्त्र में विद्यार्थी हैं लेकिन शिक्षक पद नहीं है। यह रिपोर्ट इस उद्देश्य तैयार की गई थी कि स्कूलों में पढ़ाने के लिए विषयों में शिक्षक की जरूरत है वहां नियुक्ति की जाए ।

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा है कि

“प्लस टू स्कूलों में कुछ विषयों में पद सृजित किए जाने का मामला संज्ञान में है। जिन विषयों में विद्यार्थी नामांकित है पर शिक्षकों का पद नहीं है ,उनमें पद सृजित किया जाएगा। राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र समेत कुछ विषयों में पद सृजन के लिए कमेटी गठित की गई है ।जिलों से जानकारी भी मांगी गई है।”

Leave a comment

Your email address will not be published.